Loading...

Category: Tinka Tinka Editorial

जेलों की बेकाबू भीड़ और सुप्रीम कोर्ट की जायज चिंताएं

तिनका तिनका:   अप्रैल 9, 2018 डॉ. वर्तिका नन्दा इस समय देश की ज्यादातर जेलों में अपनी निर्धारित क्षमता से कहीं ज्यादा कैदी हैं. नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्‍यूरो की 2015 की [ … ]

खुली जेलों पर सुप्रीम कोर्ट, मीडिया और मानवाधिकार

दरअसल खुली जेल एक ऐसी जेल होती है जिसमें जेल के सुरक्षा नियमों को काफी लचीला रखा जाता है. ऐसी जेलें आमतौर से केंद्रीय जेल से बाहर स्थापित की जाती [ … ]

आंखों में सपने संजोए बंदी: 14 पेट्रोल पंप, हजारों उम्मीदें…

इस समय तेलंगाना में 14 पेट्रोल पंपों का जिम्‍मा पूरी तरह से कैदियों के हाथों में है. यहां काम करने वाले बंदी 3 शिफ्टों में इन पेट्रोल पंपों को रात-दिन [ … ]

तिनका- तिनका ‘वैलेंटाइन’: इंतजार की अंतहीन खराश के बीच कुछ प्रेम….

‘वैलेंटाइन डे ’ पर भारत और दुनियाभर में प्रेम को विविध रूपों में अभिव्‍यक्‍त किया जाता है. इसमें से ज्‍यादातर जिक्र ‘इस पार’ के संसार का है.  लेकिन उस पार [ … ]

पिता, दीया और तिनका तिनका : वर्तिका नन्दा

पिता, दीया और तिनका तिनका पिता के नाम एक दीया : वर्तिका नन्दा ऐसी दीवाली कौन समझेगा। अस्पताल के आईसीयू के एक कोने में बिना बाती का एक दीया-तिनका तिनका। [ … ]

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बीच खुली जेलों का मसला

वर्तिका नन्दा तिहाड़ जेल से लगे हुए तिहाड़ हाट में मनु शर्मा को हर रोज शाम देखा जा सकता है। वह तिहाड़ जेल के बहुत से समारोहों का हिस्‍सा बनता [ … ]

Editor's choice