Loading...
Wall

Tinka Tinka Dasna : A wall bringing about a change

Can a wall bring about a change? Can a wall raise hopes? Can a wall help overcome fears?

Yes, it surely can. The wall at Dasna jail, Ghaziabad is changing the lives of about 3,500 prisoners. A plain wall has been turned into a 3D painting by four inmates of Dasna jail. Separated from their families, under 24-hour surveillance, life in prisons is not easy. The wall painting at Dasna jail has not only made the jail surroundings lively but it also has an emotional value for the inmates. The painting titled, Tinka Tinka Dasna against a backdrop of blue sky with flying birds has two rocks on the corners with a poem written by Dr. Vartika Nanda, prison reforms activist and founder, Tinka Tinka who conceptualized this idea on one and a quote by the jail superintendent on the other. In the middle are 10 pillars with 10 elements which include a window overlooking a river, a clock, a leaf, a key and a lock, a photo frame with the word ‘Pita’ or father, a necklace, a tear-filled human eye, a letter with burnt edges and the word ‘Maa’ or mother written on it and a Deepak (or lamp), all signifying various aspects of jail life.

Talking to ABP news, Vivek Swami, one of the artists behind the wall and an inmate of Dasna jail, said “गलती से क्राइम हो जाता है सर पर यह सुधारगृह आकर बदलने की कोशिश करते है और 90% बदल कर भी जाते है यहाँ से इंसान I मैं ऐसे कोशिश करूँगा की क्राइम से कोई जुड़े ही ना ऐसा कोई मैसेज दूँ और यहाँ से जाने के बाद मैं भी सिर्फ पेंटिंग ही करूँगा और अपने साथ रिहा होने वाले लोगो को भी यही चीज़ सिखाऊंगा, पेंटिंग I”

READ  Tinka Tinka Dasna: Wall

Speaking on how life has changed post the painting, Shahzad, an inmate of Dasna jail said, “हाँ जी इसमें बदलाव आया जी हमारे ज़िन्दगी में काफी और हमने यह महसूस किया की देखो जेल तो जेल ही होता हैं लेकिन इस जेल में आकर भी जब मैं यहाँ आया था तो मुझे डर था पता नहीं यहाँ क्या होगा लेकिन ऐसा कुछ नहीं हैं, यहाँ भी एक दुनिया हैं जो हर तरीके से अलग होती हैं, यहाँ जीने का मौका सबको मिलता हैं, आने वाले को सुधरने का मौका मिलता हैं अपनी गलतियां सुधारने का मौका मिलता हैं I” Aasharam Giri, another inmate of Dasna jail agreed “यह महसूस होता हैं की हिम्मत रखनी चाहिए और अच्छा कार्य करना चाहिए और मंज़िल कोई दूर नहीं हैं, आशा कोई दूर नहीं हैं I इस पेंटिंग में सारे जीवन के बारे में दर्शाया गया हैं I”

“सबसे बड़ी तस्वीर की बात यह हैं की जिनको हम जीवन की रुकी हुई, अटल दीवार खड़ी हुई महसूस करते हैं, नहीं ऐसा नहीं हैं, मनुष्य के अंदर हौसला बुलंद होना चाहिए, साहस होना चाहिए, ऊंची से ऊंची दिवार को लाँघ सकता हैं “added Brajmohan, inmate, Dasna jail.

On what do the blue sky and free birds signify, Yogesh, inmate, Dasna jail replied, “यह महसूस होता हैं की यह आज़ाद पंछी हैं आसमान की सेर कर रहे हैं, हम भी यहाँ से बहार निकल जाकर बाहर की दुनिया की सेर करे, हम भी अच्छी ज़िन्दगी बिताएँ I”

Even the jail authorities feel the same, S.P Yadav, Jail Superintendent, Dasna jail, Ghaziabad added “हमारे जेल के बंधी जिसमें से कुछ तो पेंटर हैं, इसके अलावा हमारे तमाम जो बंधी हैं सैकड़ों की संख्या में उनकी आशाओं, आकाँक्षाओं, उम्मीदों और सपने हैं उन सबका प्रतिबिम्ब इसमें किया गया हैं, बिल्कुल लगता हैं की जो निराशा में भी, हमारे यहाँ जो बंधी हैं, सब हैं तो निराशा में ही, तो उनमें एक आशा की उम्मीद जगती हैं की हम यहाँ से निकल कर भी जायेंगे और जो हमारे बंधियों में औषद ,जो ऐसी प्रवर्तियाँ हैं उनसे भी निकलने में इनको सहायता मिल रही हैं”

READ  Tinka Tinka Dasna: Wall

Aastha Poddar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Editor's choice